Home Agra आगरा जब ऐसी हो यात्रा तो क्यों ना हो हादसा,वाहनों में जान...

आगरा जब ऐसी हो यात्रा तो क्यों ना हो हादसा,वाहनों में जान जोखिम में डालकर यात्रा कर रही है सवारिया

आगरा जब ऐसी हो यात्रा तो क्यों ना हो हादसा

आगरा:- शहर में डग्गामार वाहन जुगाड़बैन सवारियों को जान जोखिम में डाल रहे है जमकर ओवरलोडिंग की जा रही है गाड़ियों में यात्रियों को ठुश ठुशकर भरा जा रहा है बावजूद इसके संबंधित विभाग और पुलिस प्रशासन खामोश बैठा है जिससे कभी भी गंभीर हादसा हो सकता है पुलिस प्रशासन की मेहरबानी कहे या कमजोरी जिसकी वजह से प्राइवेट वाहन और डग्गामार वाहन निर्धारित क्षमता से अधिक सवारियों को बैठाकर यात्रा करा रहे हैं चाहे टूंडला फिरोजाबाद या टेढ़ी बगिया खंदौली हाथरस रोड या फतेहाबाद रोड और शमशाबाद मार्ग मुख्यालय से जुड़ने वाले सभी मार्ग पर खुलेआम ओवर लोडिंग वाहन धड़ल्ले से दौड़ रहे हैं

ऐसा नहीं है कि इन पर पुलिस की नजर नहीं पड़ती हो लेकिन अधिकांश पुलिस कर्मियों की नजर पैसों की जुगाड़ में लगी रहती है लेकिन पुलिस और उप संभागीय परिवहन कार्यालय जान कर भी अंजान बने बैठे हुए हैं ओवरलोडिंग के हालत यह है कि सवारियां पैरदान व लटककर घर तक पहुंचती है टैंपो के पीछे खड़े होकर जुगाडमारुति वैन से ज्यादा बैठकर और बस जीप आदि की छत पर सवार होकर हर दिन सैकड़ों लोग जान की बाजी लगाकर यात्रा कर रहे हैं

मारुति वैन स्कॉर्पियो तथा मैक्स जैसे अन्य वाहनों के चालक अपने दोनों तरफ सवारियों को लटकाकर यात्रा कराते हैं वही गाड़ियों के डाले पर भी यात्री विराजमान रहते हैं ऐसे में थोड़ी सी चूक भी भयंकर हादसे को न्योता दे सकती है पुलिस थाना के सामने से ओवरलोडिंग के साथ यातायात नियमों की धज्जियां उड़ाते हैं वाहन प्रतिदिन धड़ल्ले से गुजरते हैं लेकिन तीन सवारियों या कागजों की कमी पर बाइक सवार व एक्टिवा स्कूटर का चालान करने वाली पुलिस को यह वाहन दिखाई क्यों नहीं पड़ते नाम ना छापने की शर्त पर संवाददाता को एक डग्गामार वाहन चालक ने बताया कि स्थानीय पुलिस चौकी व थाने पर हफ्ता या महीनेदारी बंधी होती है शर्त के अनुसार चढ़ावा भी दिया जाता है चढ़ावे के बिना हम ओवर लोडिंग सवारी नहीं भर सकते